Acupressure in Hindi – एक्युप्रेशर क्या है

एक्युप्रेशर क्या है ?

Acupressure in Hindi – एक्युप्रेशर क्या है – एक्युप्रेशर मानव शरीर पर किस तरह कार्य करता है ? इसके क्या फायदे हैं और क्या नुकसान आज हम आपको बताने जा रहे हैं चीन एक्युप्रेशर का प्रयोग हजारो बर्षों से किया जा रहा है एक्युप्रेशर को कभी कभी एक्युपंचर भी कहा जाता है क्यों कि एक्युप्रेशर से इलाज के लिए एक्युपंक्चर थेरपी का सिधांत लागू होता है.
एक्युप्रेशर क्या है
चीनी उपचार में हजारों वर्षों से एक्युप्रेशर थेरपी द्वारा इलाज किया जाता रहा है एक्युप्रेशर शरीर को स्वस्थ रखने और व्यवस्थित करने की क्षमता को जगाने के संकेत भेजने की तकनीक है ऐसा माना जाता है कि हमारे शरीर के अंदर जीवन ऊर्जा का प्रवाह कुछ नलिकाओं के माध्यम से होता है जिन्हें “मेरीडीयन” कहा जाता है एक्युप्रेशर के माध्यम से जीवन ऊर्जा के प्रवाह में सुधार लाकर शरीर को पहले जैसी अवस्था में लाया जाता है |

एक्युप्रेशर के बिंदु (Acupressure points)


मानव शरीर के अन्दर लगभग 1000 के आसपास एक्युप्रेशर बिंदु होते हैं लेकिन यहा पर हम आठ बिंदु पर नजर डालते हैं

  1. गॉल ब्लेडर 20- यह बिंदु आपके सिर के पीछे वाले भाग की तरफ कान के बगल में गले पर होता है इस बिंदु पर सिरदर्द, माइग्रेन,धुंधला दिखना, थकान, सर्दी. सुस्ती का इलाज किया जा सकता है |
  2. गॉल ब्लेडर 21- यह बिंदु कंधे के उपरी भाग में होता है इस बिंदु में अंगूठे और बीच की उंगली से दबाव बनाया जाता है यह बिंदु तनाव, चेहरे का दर्द, सिरदर्द, दातों का दर्द, गर्दन दर्द में उपचार किया जाता है गर्भवती महिलाओं को इस उपचार को सावधानी पूर्वक किया जाना चाहिए |
  3. लार्ज इंटेस्टाइन – यह हाथ के अंगूठे और चारो उंगली के बीच मुलायम हिस्सों में पाये जाते हैं यह बिंदु तनाव, सिरदर्द, गर्दन दर्द के उपचार के लिए होता है |
  4. लीवर 3- यह बिंदु हमारे पैर के पंजे के ऊपर की तरफ अंगूठे और उसके पास वाली उंगली में होता है तनाव, कमर दर्द, बी. पी., अनिद्रा के उपचार के लिए अच्छा है |
  5. पेरीकाडीयम 6- यह आपकी हाथ की हथेली से चार इंच पर कलाई पर होता है यह चिंता, पेट खराब, जी मचलना, सिरदर्द, दिल की बीमारी में उपयोग किया जाता है
  6. ट्रपल एनजाईजर.3 – यह आपके हाथ के पंजे में चौथी एव पाँचवी उंगली की नसों के बीच पाया जाता है सिर दर्द कंधे, गर्दन दर्द, तनाव पीट दर्द मे उपयोग किया जाता है
  7. ईशटमक 36- यह पॉइंट पाव पर घुटने के चार इंच नीचे होता है इसमे थकान, अवसाद, घुटने में दर्द,पेट आतं संबंधित परेशानियों से लाभ मिलता है
  8. इसपीलीन 6- यह बिंदु आपके पैर के अंदरूनी हिस्सों में एड़ी से थोड़ा ऊपर की तरफ होता है यह मूत्र संबंधित रोगों के साथ साथ थकान और अनिद्रा में लाभदायक होता है

एक्युप्रेशर कैसे करें


आप स्वयं भी एक्युप्रेशर बिंदु पर मालिश कर सकते हैं लेकिन किसी डॉक्टर की सलाह लेने से आपको सुरक्षा रहेगी एक दिन में आप कितने ही बार मालिश कर सकते हैं जितने बार आपको सुविधा लगे जब भी आप मालिश करे तो किसी सुरक्षित स्थान पर बैठकर आराम से आँख बंद कर गहरी साँस ले और इन बिंदु पर हल्का दबाते हुए मालिश करे |


एक्युप्रेशर कैसे काम करता है


इस थेरेपी में शरीर के निश्चित बिंदु पर दबाव डालकर जीवन ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ाती है इन बिंदु पर बहुत ही बारीकी से काम करना चाहिए हमारे शरीर के अंदर ( मेरीडीयन ) 365 बिंदु और 650 अन्य बिंदु है इसमें शामिल किया गया है शरीर को मजबूत करना, फैलाया जाना या शांत करना, कमजोर ऊर्जा को मज़बूत करना, रुकी हुई ऊर्जा को शुरू करना इन बिंदुओं को कुछ सेकंड से मिनिट तक दबाया जाता है बीमारी की स्थिति के अनुसार हर दिन या फिर दिन में कई बार उपचार किया जा सकता है

एक्युप्रेशर के फायदे

निम्न परेशानियों में एक्युप्रेशर से लाभ मिल सकता है –

  • कलाई में एक्युप्रेशर से मतली या उल्टी का उपचार किया जा सकता है|
  • एक्युप्रेशर थेरेपी या कीमोथेरेपी से कैंसर के उपचार के बाद
  • एक्युप्रेशर थेरेपी कमर दर्द, ऑपरेशन के बाद होने वाले दर्द, और सिर दर्द में आराम |
  • यह थेरेपी एंटी सूजन असर को बढ़ावा देती है जिसमें कुछ प्रकार के गठिया रोगों में मदद मिलती है |
  • एक्युप्रेशर थेरेपी से थकान और मनोदशा में सुधार हो सकता है

एक्युप्रेशर के नुकसान

अगर बीमारी ज्यादा पुरानी है तो इस पद्धति में नुकसान हो सकता है एक्युप्रेशर सुरक्षित उपचार है अगर आपको कैंसर या दिल की बीमारी है तो डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं गर्भावस्था में एक्युप्रेशर थेरेपी से गर्भपात हो सकता है बहुत अधिक दबाव से शरीर के अन्य अंग फ्रेक्चर हो सकते हैं

Acupressure in Hindi – एक्युप्रेशर क्या है

Also Read – मशरूम उत्पादन की जानकारी – mushroom in hindi

Leave a Comment

Scroll to Top